June 20, 2024

UP One India

Leading Hindi News Website

मनीष गुप्ता हत्याकांड: पहले दिन ही एक नहीं बल्कि कई अहम सुराग लगे SIT के हाथ

          गोरखपुर। कानपुर से दोस्तों संग गोरखपुर घुमने आए मनीष गुप्ता की पुलिस की पिटाई से मौत के मामले में गोरखपुर पहुंची कानपुर की एसआईटी टीम ने वारदात की परतों को हटाना शुरू कर दिया है। पहले दिन की ही जांच में एसआईटी के हाथ एक नहीं बल्कि कई ऐसे अहम सुराग लगे हैं, जिससे जल्द ही इस मामले में बड़ा खुलासा होने की उम्मीद है। वहीं टीम अब होटल कृष्णा पैलेस और मानसी हास्पिटल में लगे सीसीटीवी फुटेज और होटल कर्मचारी से पूछताछ के आधार में मौत से जुड़े राज खोलने में जुट गई है।
        एसआईटी टीम मानसी हास्पिटल जाकर वहां भी फॉरेंसिक जांच करेगी।टीम यह पता करने की कोशिश में जुटी है कि किसके दबाव में होटल कर्मचारी आर्दश पांडेय ने घटना के तत्काल बाद ही होटल से मनीष के खून के धब्बों को साफ कर दिया था।टीम यह पता करने की कोशिश में जुटी है कि किसके दबाव में होटल कर्मचारी आर्दश पांडेय ने घटना के तत्काल बाद ही होटल से मनीष के खून के धब्बों को साफ कर दिया था। होटल कर्मचारी खोलेगा राज- किसके कहने पर मिटाया सबूत दूसरी ओर अभी टीम यह पता करने की कोशिश में जुटी है कि किसके दबाव में होटल कर्मचारी आर्दश पांडेय ने घटना के तत्काल बाद ही होटल से मनीष के खून के धब्बों को साफ कर दिया था। जबकि सीसीटीवी फुटेज और अस्पताल की टाइमिंग ही अब पुलिस वालों के गले की फांस बन रही है। इतना ही नहीं एसआईटी की सीन रिक्रीएट करने के दौरान भी गिरकर इतनी गंभीर चोटें लगने की बात फिलहाल सामने नहीं आ रही है। जबकि बेंजाडीन टेस्ट में पुलिस ने जमीन की सतह के मिटाए गए सबूत भी एसआईटी ने जुटा लिए हैं। होटल में एक नहीं बल्कि कई जगहों से मिटाए गए खून के धब्बे बेंजाडीन टेस्ट में सामने आ गए।मानसी अस्पताल के डॉक्टर पंकज दीक्षित ने भी इस मामले में बड़ा खुलासा किया है।
         इन सबके अलावा मानसी अस्पताल के डॉक्टर पंकज दीक्षित ने भी इस मामले में बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा है कि घटना वाली रात करीब 12.30 से एक बजे के बीच पुलिस एक घायल को लेकर पहुंची थी। पुलिस ने कहा था कि चेकिंग के दौरान एक युवक घायल हो गया है। इसकी मरहम- पट्टी कर दीजिए। चेकअप के दौरान ही मरीज का बीपी ब्लड प्रेशर और पल्स नहीं मिल रहा था। डॉक्टर ने बताया कि ऐसे में हमने तत्काल बीआरडी मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया। डॉक्टर पंकज दीक्षित ने साफ तौर पर कहा है कि घायल के अस्पताल पहुंचने से पहले ही उसके शरीर से काफी अधिक खून निकल चुका था। शायद इसी वजह से उसकी पल्स और बीपी हमें नहीं मिली।
    आज रविवार की सुबह से ही जांच में जुटी हुई है। एसआईटी की अलग- अलग टीमें एक साथ होटल कृष्णा पैलेस मानसी हास्पिटल और बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इस मामले की पड़ताल कर रही है। जबकि खबर यह भी आ रही है कि यह केस सीबीआई के टेकओवर करने से पहले ही इस मामले में कानपुर पुलिस एसआईटी की रिपोर्ट पर जल्द ही आरोपितों की गिरफ्तारियां कर बड़े खुलासे कर सकती है।
     एसआईटी चीफ व कानपुर के एडिशनल पुलिस कमिश्नर आनंद कुमार तिवारी ने बताया कि हमारी कई टीमें इस दिशा में काम कर रही हैं। फिलहाल इतनी जल्दी इस मामले में कुछ भी कहना उचित नहीं होगा अगर सभी का सहयोग मिला तो उम्मीद है कि जल्द ही हमारी टीम इस मामले से जुड़े सभी तथ्यों का जुटाकर मौत का राजफाश कर देगी।

error: Content is protected !!