January 29, 2023

UP One India

Leading Hindi News Website

Gorakhpur Mahotsav 2023: जानें कब आयोजित होगा Gorakhpur Mahotsav, यह महोत्सव गोरखपुर में अब तक का होगा सबसे बड़ा महोत्सव

Gorakhpur Mahotsav 2023: जानें कब आयोजित होगा Gorakhpur Mahotsav, यह महोत्सव गोरखपुर में अब तक का होगा सबसे बड़ा महोत्सव

Gorakhpur Mahotsav 2023, Gorakhpur Mahotsav, Mahotsav 2023, Mahotsav Gorakhpur

गोरखपुर। गोरखपुर महोत्सव Gorakhpur Mahotsav 2023 को एक मेगा व्यापार मेले और विभिन्न प्रकार की गतिविधियों और कार्यक्रमों को शामिल करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसमें बच्चों के विभिन्न शैक्षणिक, खेल और सांस्कृतिक अंतर स्कूल प्रतियोगिताओं से युक्त एक बाल उत्सव शामिल है। महिलाओं के लिए भी कई तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है। स्थानीय कलाकारों को बढ़ावा देने के लिए उनकी प्रतिभा दिखाने का अवसर दिया जा रहा है।
‘गोरखपुर महोत्सव’ 11 से 13 जनवरी 2023 ( Gorakhpur Mahotsav 2023 ) को आयोजित किया जा सकता है। यह महोत्सव गोरखपुर में अब तक का सबसे बड़ा महोत्सव होगा।

Gorakhpur Mahotsav 2023: Know when Gorakhpur Mahotsav will be held, this festival will be the biggest ever in Gorakhpur

डीएफओ विकास यादव ने बताया कि इस बार गोरखपुर महोत्सव में वन विभाग भी शामिल होगा। जंगल मैराथन के तहत पांच किलोमीटर तक बच्चों व सामाजिक संगठनों, सामान्य नागरिकों को जंगल के बीच घुमाया जाएगा। इस दौरान लोगों को जंगल और उसके माहौल के बारे में जानकारी दी जाएगी।

इसके अलावा नोबेल पुरस्कार विजेता माइक एच पांडेय द्वारा निर्देशित पांच अलग-अलग सिनेमा प्रदर्शित किए जाएंगे। गंभीरनाथ प्रेक्षागृह में सिनेमा के माध्यम से लोगों को ईको टूरिज्म की खासियत को समझाने की कोशिश की जाएगी। वन विभाग और बैंबू मिशन की ओर से तैयार बांस के उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई जाएगी। कार्यक्रम स्थल पर ईको टूरिज्म फोटोग्राफी का भी स्टाल लगाया जाएगा। इसमें शहर के अलग-अलग सुंदर प्राकृतिक स्थलों की तस्वीरें होंगी।
चिड़ियाघर में दो दिन कार्यक्रम होंगे। एक दिन नेचर वाक होगा और दूसरे दिन चिड़ियाघर के वेटलैंड में बर्डवाच कार्यक्रम होगा। अभी तक पांच स्कूलों के बच्चों को कार्यक्रमों से जोड़ा गया है।

क्या है ईको टूरिज्म
ईको टूरिज्म का मतलब है प्राकृतिक सौंदर्य के करीब जाना और उसका आनंद लेना। इसके तहत पर्यटकों को प्राकृतिक क्षेत्रों में ले जाया जाता है, ताकि वह कुदरत के सौंदर्य का आनंद ले सकें। साथ ही पर्यावरण के संरक्षण के बारे में जागरूक किया जाता है।

You may have missed

error: Content is protected !!