सफेद दांतों के लिए टूथब्रश की जगह हाइड्रोजेल थेरेपी को अपनाना होगा बेहतर

सफेद दांतों के लिए टूथब्रश की जगह हाइड्रोजेल थेरेपी को अपनाना होगा बेहतर

सफेद दांत से न सिर्फ आपकी हंसी सुंदर लगती है, बल्कि यह मुंह के स्वस्थ होने का भी प्रतीक है। इसलिए कई लोग अपने दांतों को साफ करने के लिए अच्छे से अच्छे टूथपेस्ट और टूथब्रश का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन यकीन मानिए दांतों को सफेद बनाए रखने के लिए इन चीजों की जरूरत नहीं है। दरअसल, शोधकर्ताओं ने एक नई हाइड्रोजेल थेरेपी का आविष्कार किया है, जो दांतों को नुकसान पहुंचाए बिना उन्हें सफेद रख सकती है।

ब्रश और फ्लॉसिंग करना दांतों को सफेद करने में नहीं हैं मददगार
एक नए शोध के के अनुसार, ब्रश और फ्लॉसिंग महत्वपूर्ण हैं और कैविटी को बढऩे से रोकने में सहायक हैं, लेकिन ये तरीके आपके दांतों को सफेद करने में सहायक नहीं हैं। शोधकर्ता लोगों को अपने दांत ब्रश करना बंद करने के लिए नहीं कह रहे हैं बल्कि इसकी बजाय एक पेशेवर उपचार चुनने का आग्रह कर रहे हैं।

ओवर-द-काउंटर उपचार तामचीनी को पहुंचा सकते हैं नुकसान
लोग अपने दांतों को सफेद करने के लिए जिन ओवर-द-काउंटर उपचारों की ओर रुख करते हैं उनमें हाइड्रोजन पेरोक्साइड युक्त जेल और ब्लू लाइट का संयोजन होता है। यह संयोजन रासायनिक प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है जो दांतों से दाग हटा सकता है। हालांकि, यह उपचार तामचीनी को नुकसान पहुंचा है, जिससे मलिनकिरण हो सकती हैं। इसलिए शोधकर्ता शियाओली वांग और उनके सहयोगियों ने टाइटेनियम डाइऑक्साइड नैनोकणों को कम करने के लिए सफेद दांतों के लिए हाइड्रोजेल थेरेपी बनाई गई है।

ग्रीन लाइट से सक्रिय पदार्थ की खोज करना चाहते थे वैज्ञानिक
दांतों को सफेद करने की कम हानिकारक विधि के लिए अभी भी उच्च-तीव्रता वाली ब्लू लाइट की आवश्यकता होती है, जो आस-पास की त्वचा और आंखों को नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए वैज्ञानिक एक ऐसी सामग्री की तलाश में थे, जो ग्रीन लाइट को सक्रिय करके एक सुरक्षित विकल्प बनें। वैज्ञानिकों ने एक गाढ़ा मिश्रण बनाने के लिए बिस्मथ ऑक्सीक्लोराइड नैनोपार्टिकल्स, कॉपर ऑक्साइड नैनोपार्टिकल्स और सोडियम एल्गिनेट को मिलाया और इसे दांतों पर लगाया।

हाइड्रोजेल और ग्रीन लाइट के उपचार से दांत हुए सफेद
वैज्ञानिकों ने संयोजन को कैल्शियम क्लोराइड समाधान के साथ मिलाकर एक मजबूत चिपकने वाला हाइड्रोजेल बनाया। इसके बाद उन्होंने चाय, कॉफी, ब्लूबेरी जूस और सोया सॉस से सने दांतों पर सामग्री का परीक्षण किया और उन्हें एक लैब डिश में रखा। ग्रीन लाइट और हाइड्रोजेल के साथ इलाज करने के बाद दांत तामचीनी क्षति का अनुभव किए बिना चमकदार हो गए। इस उपचार ने दांतों के बायोफिल्म्स में 94 प्रतिशत कीटाणुओं को भी मार डाला।

शोधकर्ताओं ने चूहों पर नई विधि का किया परीक्षण
यह समझने के लिए कि क्या उपचार जीवित जीवों के दांतों पर काम करता है, वैज्ञानिकों ने चूहों पर नई विधि को आजमाई, जिनके मुंह कीटाणुओं से भरे हुए थे। ग्रीन लाइट सक्रिय हाइड्रोजेल ने उनके दांतों पर मध्यम और गहरी कैविटी को रोका। इन परिणामों के साथ स्टडी के शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि यह सुरक्षित, ब्रश-मुक्त उपचार कैविटी को रोकने के साथ दांतों को सफेद करता है।

error: Content is protected !!