November 26, 2022

UP One India

Leading Hindi News Website

चक्रवात असानी ने दिखाना शुरू दिया अपना असर, 111 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा आगे

चक्रवात असानी ने दिखाना शुरू दिया अपना असर, 111 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा आगे

चक्रवात असानी ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है

नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में प्रवेश करने के बाद चक्रवात असानी ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। इसकी वजह से ओडिशा, बंगाल और आंध्र प्रदेश में तूफानी बारिश का अलर्ट जारी किया है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने यह जानकारी दी है।

उन्होंने बताया कि यह बंगाल की दक्षिण-पूर्वी खाड़ी के ऊपर अधिक तीव्र होकर एक भीषण चक्रवाती तूफान में बदल गया है, क्योंकि यह उत्तर आंध्र प्रदेश-ओडिशा तटों की दिशा में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ गया था। मौसम विभाग ने कहा कि असानी तूफान के मंगलवार को उत्तर आंध्र-ओडिशा तटों से पश्चिम-मध्य और उससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचने पर, उत्तर-पूर्व की ओर मुडऩे और ओडिशा तट से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर बढऩे की संभावना है।

मौसम विभाग के अनुसार, चक्रवात के आज बंगाल की खाड़ी में 111 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से आगे बढऩे की उम्मीद है। मौसम विभाग के अनुसार, ओडिशा तट के पास समुद्र की स्थिति नौ मई को खराब और 10 मई को अत्यधिक खराब हो जाएगी। मौसम विभाग ने श्असानी्य की गति और तीव्रता के अपने पूर्वानुमान में कहा, इसके गुरुवार तक गहरे दबाव में बदलने की संभावना है। आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चक्रवात पूर्वी तट के समानांतर चलेगा और मंगलवार शाम से बारिश होने का कारण बनेगा।

ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पीके जेना ने कहा कि राज्य सरकार ने बचाव अभियान के लिए पर्याप्त व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि हमें राज्य में कोई बड़ा खतरा दिखाई नहीं दे रहा है, क्योंकि यह पुरी के पास तट से करीब 100 किलोमीटर दूर से गुजर जाएगा। हालांकि, राष्ट्रीय आपदा प्रक्रिया बल (एनडीआरएफ), ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ओडीआरएएफ) और दमकल सेवाओं के बचाव दल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

बालासोर में एनडीआरएफ के एक दल को तैनात किया गया है और ओडीआरएएफ के एक दल को गंजम जिले में भेजा गया है। ओडीआरएएफ की टीमें पुरी जिले के कृष्ण प्रसाद, सतपाड़ा, पुरी और अस्टारंग ब्लॉक और केंद्रपाड़ा के जगतसिंहपुर, महाकल्पपाड़ा और राजनगर और भद्रक में भी तैयार हैं।
जेना ने कहा कि सभी जिलों को अलर्ट पर रखा गया है। जिला अधिकारियों को स्थानीय स्थिति को ध्यान में रखते हुए लोगों की सुरक्षित निकासी का अधिकार सौंपा गया है।

भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने कहा, श्चक्रवात के प्रभाव में मंगलवार शाम से तटीय जिलों में बारिश संबंधित गतिविधियां शुरू हो जाएंगी.्य मंगलवार को ओडिशा के गजपति, गंजम और पुरी के कुछ इलाकों में भारी बारिश की संभावना है। बुधवार को गंजम, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर और कटक में भारी बारिश हो सकती है। बृहस्पतिवार को पुरी, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर में भारी बारिश की संभावना है।
 

error: Content is protected !!