November 26, 2022

UP One India

Leading Hindi News Website

माफिया डान मुख्तार अंसारी के चार और गुर्गे गिरफ्तार, गैंगस्टर एक्ट लगने के बाद हुई चारो गुर्गों की गिरफ्तारी

माफिया डान मुख्तार अंसारी के चार और गुर्गे गिरफ्तार, गैंगस्टर एक्ट लगने के बाद हुई चारो गुर्गों की गिरफ्तारी

बाराबंकी । माफिया डान मुख्तार अंसारी के बहुचर्चित एंबुलेंस मामले मे बुधवार को भी कोतवाली नगर पुलिस ने गैंगस्टर मे मुकदमा दर्ज होने के बाद मुख्तार अंसारी के 4 करीबियों को को कोतवाली नगर पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल जेल भेजने की कारवाई की है।
मिली जानकारी के अनुसार दो अप्रैल 2021 को कोतवाली नगर मे दर्ज मुकदमे मे सभी आरोपी जेल गए थे।दो दिन पूर्व उसी केस के सभी आरोपियों के विरुद्ध सरकार ने गैंगस्टर एक्ट मे लगा दिया था जिसमे मऊ जिले मे संचालित श्याम संजीवनी अस्पताल की संचालक डा.अलका राय व उनके सहयोगी डा. एसएन राय को जिले कि पुलिस मंगलवार को गिरफ्तार करके मंगलवार की सुबह करीब 4 बजे जिले कि पुलिस टीम गिरफ्तार करके लेकर आई थी और पूछताछ के बाद 30 दिन की न्यायिक हिरासत मे जेल भेज दिया गया था और एक दिन बाद चार और गैंगस्टर एक्ट मे वांछित अभियुक्तों को गिरफ्तार करके जेल भेजे गए है जिसमे वांछित सुरेंद्र शर्मा पुत्र इंद्राशन शर्मा,फिरोज कुरैशी पुत्र हसनैन निवासीगढ़ यूसूफपुर थाना मोहम्मदाबाद जिला गाजीपुर,सलीम पुत्र बदरुद्दीन शाह निवासी यूसुफपुर मगल बाजार मोहम्मदाबाद जिला गाजीपुर व राजनाथ यादव पुत्र फुलेश्वर यादव निवासी अहिरौली पोस्ट हथनी थाना सरायलखनशी जिला मऊ को कोतवाली नगर टीम के द्वारा के लखनऊ हाइवे पर असैनी ओवर ब्रिज से गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है।
विदित हो कि माफिया डान मुख्तार अंसारी जब पंजाब कि जेल मे अपने गुनाहो की सजा काट रहा था उसकी पेशी के लिए बाराबंकी नम्बर की एंबुलेस का इस्तेमाल सालों से हो रहा था जो की डा.अलका राय संचालक श्याम संजीवनी अस्पताल के फर्जी निवास पर दर्ज पाई गई थी जिसकी जांच मे निकल कर आया था कि डा.अलका का जो प्रमाण पत्र एंबुलेंस के रजिस्ट्रेशन मे दिया गया था वो पूरी तरह फर्जी है जिसके बाद सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी पंकज सिंह की तहरीर पर दो अप्रैल 2021 मे मुकदमा दर्ज हुआ था तत्कालीन एसपी यमुना प्रसाद ने तत्काल ही विवेचना अतिरिक्त प्रभारी निरीक्षक थाना कोतवाली नगर महेंद्र प्रताप सिंह को दी थी जिनकी टीम के द्वारा डा.अलका राय व सहयोगी डा.शेषनाथ राय को गिरफ्तार करके जिले की जेल भेजा था।करीब आठ महीने जेल मे रहने के बाद डा.अलका राय व शेषनाथ राय को जमानत मिल गई थी और दोनो जमानत पर रिहा हुए थे।
वही सरकार के दोबारा गठन के बाद एंबुलेंस मामले की दोबारा फाइल खुलवाई गई और माफिया डान समेत कुल 13 आरोपियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाई की गई। जिसमे माफिया डान मुख्तार पहले से ही बांदा जिला कारागार मे निरुद्ध है।

error: Content is protected !!