दबंगों का कहर: सेना के जवान की 2 उंगली काटी; 69 बार डायल 112 पर फोन किया लेकिन नही पहुंची पुलिस

दबंगों का कहर: सेना के जवान की 2 उंगली काटी; 69 बार डायल 112 पर फोन किया लेकिन नही पहुंची पुलिस

अमेठी । मुसाफिरखाना कोतवाली क्षेत्र में बुधवार को दबंगों ने फौजी के घर पर हमला बोल दिया। लाठी-डंडे की पिटाई में जवान, उसके पिता समेत 9 लोग बुरी तरह घायल हो गए। दबंगों ने धारदार हथियार से जवान की दो उंगली काट डाली। बताया जा रहा, फौजी के परिवार ने जमीनी विवाद को लेकर 69 बार डायल 112 पर फोन किया था, लेकिन एक भी बार पुलिस उसके दरवाजे नहीं पहुंची। परिणाम यह कि दबंगों के हौसले बुलंद होते गए। इसकी शिकायत भी जवान ने डीएम से की थी।

बता दें, घटना मुसाफिरखाना कोतवाली अंतर्गत पूरे रामदत्त मिश्र दादरा गांव की है। गांव निवासी दीपक मिश्रा सरहद पर देश की रखवाली करता है। वह सेना में सूबेदार है। पीड़ित प्रद्युम्न मिश्र ने बताया, बुधवार सुबह जब वह और उसका भाई दीपक घर के बाहर बैठ कर चाय पी रहे थे तो पड़ोस के बाबूलाल, चंद्रिका प्रसाद और इनके परिवार वालों ने बांका-फरसा आदि लेकर हम लोगों को चारों ओर से घेर लिया और हमला कर दिया।
प्रदुम्न ने बताया, दबंगों ने दीपक की 2 उंगली काट डाली। हाथ और गले पर भी हमला बोला। बताया जा रहा, मंगलवार को थानाध्यक्ष ने दोनों पक्षों को थाने पर बुलाकर डांट-डपट कर बात खत्म की थी। घटना में सूबेदार दीपक मिश्रा, प्रदुम्न मिश्रा, पिता भागवत मिश्रा, मनीषा, सुभाष, पुष्कर, प्रिंस और विपक्षी बाबू लाल घायल हुए हैं। इन्हें पहले मुसाफिरखाना सीएचसी ले जाया गया, जहां से डॉक्टर ने उन्हें बेहतर इलाज के लिए सुल्तानपुर जिला अस्पताल भेजा। यहा गंभीर अवस्था में डॉक्टर ने दीपक मिश्रा, प्रदुम्न मिश्रा, पिता भागवत मिश्रा को ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर किया है।

बताया जा रहा, बाबूलाल, चंद्रिका प्रसाद दबंग व अपराधी किस्म के व्यक्ति हैं। उन्हें हत्या के आरोप में 7 साल की सजा भी कोर्ट द्वारा सुनाई गई है। दबंगई के दम पर इन्होंने गाटा संख्या 1055, 56 व गाटा संख्या 1271 क 1271ख पर शौचालय, मंडप, सरिया, भुसौली आदि का निर्माण किया है। इस मामले में साल 2019 में राजस्व टीम द्वारा जांच में खलिहान पर कब्जा सही पाए जाने पर 52 हजार का जुर्माना भी किया गया था। उक्त लोगों ने न तो जुर्माना भरा और न ही भूमि खाली की।
सेना के जवान दीपक मिश्रा ने इस संबंध में सोमवार को पिता को लेकर डीएम से मुलाकात की थी। उन्होंने बताया था कि बाबूलाल हम लोगों का रास्ता बंद कर दिए हैं। आए दिन धमकाते रहते हैं। अपने रसूख के बल पर लगभग 5 बीघे जमीन अवैध रूप से कब्जा किए हुए हैं। मेरे घर वाले 69 बार डायल 112 पर शिकायत के लिए कॉल किए बावजूद इसके अभी तक कोई राहत नहीं मिली है।

error: Content is protected !!