सिसवा विधानसभा: सामने आया एक और शिलान्यास का सच, विकास के नाम पर दिया जा रहा है गोला, सड़क बनी नही और शिलान्यास का लगा बोर्ड

                  

सिसवा विधानसभा: सामने आया एक और शिलान्यास का सच, विकास के नाम पर दिया जा रहा है गोला, सड़क बनी नही और शिलान्यास का लगा बोर्ड

सिसवा बाजार-महराजगंज। सिसवा विधानसभा में गजब का विकास हो रहा है, बिना सड़क बने ही शिलान्यास का बोर्ड लगा दिए गये, लगता है लोगों को विकास के नाम पर गोला दिया जा रहा है, जहां शिलान्यास का बोर्ड लगा है वह सड़क बनी ही नही है, यह तीसरी शिलान्यास की बोर्ड को हमने ढूंढ निकाला है जहां सिर्फ बोर्ड लगे है लेकिन सड़कें नही बनी है, यानी पूरी तरह फर्जीवाड़ा कर जनता को गोला दिया जा रहा है।

    यह तीसरा मामला है सिसवा में गंगौली का जहां सिसवा से चिउंटहां मुख्य मार्ग पर ही यह शिलान्यास का बोर्ड लगा हुआ है, बोर्ड में लिखा है कि जनपद महराजगंज पं0 दीनदयाल उपाध्याय योजना अन्तर्गत बिंदवलिया में बलियवा टोला सम्पर्क मार्ग के नवनिर्माण कार्य का शिलान्यास मां0 पंकज चौधरी वित्त राज्यमंत्री भारत सरकार व मा0 प्रेमसागर पटेल विधायक सिसवा के करकमलों द्वारा दिनांक 20 दिसम्बर 2021 को किया गया, कार्यदायी संस्था है प्रंतीय खण्ड लोक निर्माण विभाग महराजगंज, जब कि इस शिलान्यास पर जिस सड़क को नव निर्माण कार्य दिखाया गया है वह टूटी हुयी है कोई निर्माण पिछले कई सालों से नही हुआ है।
         

सिसवा विधानसभा: सामने आया एक और शिलान्यास का सच, विकास के नाम पर दिया जा रहा है गोला, सड़क बनी नही और शिलान्यास का लगा बोर्ड

  बताते चले खेसरारी के गिधवा पट्टी में भी एक सड़क को पिछले दिनों हमने खुलास किया था कि शिलान्यास का बोर्ड तो लग गया है लेकिन वहां भी सड़क का पता नही है। दूसरी गेरमा नहर पटरी का, गेरमा चौराहे से आगे लगभग 100 मीटर दूर नगर पटरी पर एक शिलान्यास का बोर्ड लगा हुआ है, जब कि जहां शिलान्यास का बोर्ड लगा है गोपाला वहां से लगभग 10 किमी दूर है, और जहां बोर्ड है वहां कोई सड़क का निर्माण ही नही हुआ है।
      वही इन तीनों शिलान्यास के बोर्ड पर साफ साफ नव निर्माण कार्य का शिलान्यास मां0 पंकज चौधरी वित्त राज्यमंत्री भारत सरकार व मा0 प्रेमसागर पटेल विधायक सिसवा के करकमलों द्वारा दिनांक 20 दिसम्बर 2021 को किया गया, कार्यदायी संस्था है प्रंतीय खण्ड लोक निर्माण विभाग महराजगंज।
    ऐसे में क्या माना जाए, क्या जनता के साथ विकास के नाम पर धोखा हो रहा है, अगर शिलान्यास हुआ है और सड़क ही नही बनी है तो इतना बड़ा फर्जीवाड़ा कौन कर रहा है, अगर बनी है तो कहां बनी है, यानी पूरी तरह विकास के नाम पर लोगों को धोखा दिया जा रहा है, गोला दिया दिया जा रहा है, इसकी जांच होनी चाहिए।
       

error: Content is protected !!