Breaking News : रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन के इंजन और दो डिब्बों में लगी आग, यात्रियों ने कोच को धक्का लगाकर किया अलग

 

Breaking News : रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन के इंजन और दो डिब्बों में लगी आग, यात्रियों ने कोच को धक्का लगाकर किया अलग

          मेरठ।  मेरठ के दौराला में शनिवार सुबह उस समय बड़ा हादसा टल गया जब सहारनपुर से दिल्ली जा रही पैसेंजर ट्रेन में आग लग गई और वक्त रहते लोग ट्रेन से उतर गए। ट्रेन से उठती लपटों ने लोगों को दहशत में ला दिया। पैसेंजर ट्रेन के दो कोच और इंजन में आग लगने के बाद बाकी कोच को काटकर अलग किया गया। इस दौरान यात्रियों ने पूरी ट्रेन को आग की चपेट में आने से बचाने के लिए इसे धक्का देकर दूर किया।
                      शनिवार सुबह सहारनपुर से चलकर दिल्ली के लिए पैसेंजर ट्रेन दौराला रेलवे स्टेशन तक पहुंची इस ट्रेन के दौराला रेलवे स्टेशन से पहुंचने से पहले ही 2 कोच और इंजन में आग लग गई थी इसके बाद जैसे ही दौराला स्टेशन पर ट्रेन को रोका गया था यात्री सही सलामत ट्रेन से उतरे। इसी दौरान यात्रियों ने अपनी सूझबूझ का परिचय दिया और रेलवे के कर्मचारियों के साथ आग लगे कोचों से ट्रेन के अन्य डिब्बे को धक्का मार कर आगे कर ठिकाने पर पहुंचाया इस तरह से ट्रेन के अन्य डिब्बे आग की चपेट में आने से बचे।
                    भारी-भरकम ट्रेन को खींचना या धक्का देकर चलाना अकल्पनीय सा लगता है। लेकिन जब एक साथ मिलकर एक ही दिशा में सैकड़ों लोगों ने ताकत लगाई तो पूरी ट्रेन को लोगों ने ऐसे खींच लिया जैसे किसी कार या ऑटो को धक्का लगा रहे हों। सोशल मीडिया पर भी यह वीडियो वायरल हो रहा है और लोग इसे एकता की ताकत बता रहे हैं।
शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी आग
                 रेलवे के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि संभवत आग शार्ट सर्किट की वजह से लगी, लेकिन ट्रेन के दौराला स्टेशन पर खड़े होने की वजह से आग पर तुरंत काबू पा लिया गया। सभी यात्रियों के डिब्बों से बाहर निकलने की वजह से किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है और सतर्कता के कारण एक बड़ा हादसा होने से टल गया।
               पुलिस के अनुसार सहारनपुर पैसेंजर दौराला स्टेशन पर सुबह 7 बजकर 10 मिनट पर पहुंचनी थी और आम तौर पर दैनिक यात्री स्टेशन पर मौजूद थे। स्टेशन पर पहुंचते ही अचानक ट्रेन के दो डिब्बों में धुआं निकलता हुआ दिखाई दिया।
भगदड़ जैसे बन गए हालात
                  रेलवे अधिकारियों ने तुरंत दोनों आग प्रभावित डिब्बों से यात्रियों को बाहर निकल वाने का काम किया। मौके पर हालांकि भगदड़ जैसे हालात बन गए लेकिन तमाम यात्रियों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया। बताया गया है कि तेज हवा के कारण आग बुझाने के काम में दमकल कर्मियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस कारण मेरठ सहारनपुर रेलवे रूट प्रभावित हो गया और कई महत्वपूर्ण ट्रेनें प्रभावित रही। इनमें दिल्ली देहरादून शताब्दी एक्सप्रेस, शालीमार एक्सप्रेस और नौचंदी एक्सप्रेस आदि गाडिय़ां शामिल रहीं।
3 घंटे बाद रेलवे ट्रैक हुआ बहाल,ट्रेनों का संचालन शुरू
               मेरठ के निकट दौराला रेलवे स्टेशन पर शनिवार की सुबह करीब 7रू10 पर सहारनपुर से दिल्ली की ओर जा रही पैसेंजर ट्रेन में आग लग लगने के बाद करीब तीन घंटे ट्रेनों का संचालन बाधित रही। अब सुबह 10.15 बजे आग से क्षतिग्रस्त ट्रेन को मेन ट्रेन से हटाकर ट्रेनों का संचालन किसी तरह शुरू किया गया है।
                 सुबह ट्रेन में आग की सूचना से रेलवे विभाग में हड़कंप मच गया था। आननफानन में रेलवे ट्रैक को ट्रेनों के संचालन के लिए बंद कर दिया गया था। इस दौरान ट्रैक से गुजर रही विभिन्न ट्रेनों को विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर रोक दिया गया था। कुछ ट्रेनों को दूसरे रास्ते से निकाला गया। अब करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने ट्रेन में लगी आग को पूरी तरह से काबू में कर लिया।
                हालांकि इस दौरान ट्रेन के इंजन सहित दो डब्बे पूरी तरह जलकर राख हो गए। वही आग पर पूरी तरह काबू पाने के बाद बाद करीब 10रू15 पर रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों का आवागमन चालू हुआ। इस दौरान करीब 3 घंटे रेलवे ट्रैक पर ट्रेन का संचालन पूरी तरह बाधित रहा। ट्रेन का संचालन शुरू होने से यात्रियों और अधिकारियों ने राहत की सांस ली है।
यात्रियों ने दिखाई हिम्मत, चलती ट्रेन से खुद को और ट्रेन को बचाया
                    सहारनपुर से दिल्ली जा रही पैसेंजर ट्रेन में शनिवार की सुबह दौराला रेलवे स्टेशन पर पहुंचते ही आग लग गई, देखते ही देखते आग ट्रेन के बीच में लगे रेल इंजन से शुरू होते हुए पीछे के दो डब्बे में फैल गई। आग की लपटें देख ट्रेन में सवार यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन में यात्री ट्रेन स्टेशन पर कूद पड़े। इस दौरान इंजन के चालक दल ने सूझबूझ दिखाते हुए यात्रियों की मदद से ट्रेन के अन्य डब्बे को काटकर जलती हुई ट्रेन से अलग किया।
                 आग लगी बोगियों को अलग करने में यात्रियों का योगदान महत्वपूर्ण रहा। नहीं तो ट्रेन की कई बोगियों तक आग पहुंच सकती थी। यात्रियों ने सहयोग करते हुए ट्रेन के डब्बे को धक्का लगाया और पूरी ट्रेन को जलने से बचाया, जिसके बाद फायर ब्रिगेड कर्मचारियों ने आग पर काबू पाया। यात्री यदि हिम्मत नहीं दिखाते तो पूरी ट्रेन जलकर राख हो जाती।
             डीआरएम दिल्ली पिंकी गर्ग अधिकारियों की टीम के साथ दौराला रेलवे स्टेशन पहुंचे। उन्होंने जले हुए कोचों का निरीक्षण किया और स्थानीय अधिकारियों से बातचीत कर जानकारी ली।
               निरीक्षण के बाद डीआरएम डिंपी गर्ग ने पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने बताया कि ट्रेन के कोचों में आग लगने की जांच के लिए समिति बना दी गई है, आग लगने के कारणों की जांच के बाद स्पष्ट तौर पर जानकारी दी जा सकेगी।
              उन्होंने बताया कि इस दौरान दो तीन ट्रेनों का आवागमन प्रभावित हुआ। इस ट्रेन के यात्रियों को पीछे से आ रही सुपर फास्ट ट्रेन में सवार कराकर गंतव्य के लिए रवाना किया गया। उन्होंने बताया कि जांच के लिए टीम को दिल्ली से बुलवाया जा रहा है, टीम की जांच रिपोर्ट के आधार पर ही आगे कार्रवाई होगी।

error: Content is protected !!